Tuesday, February 20, 2024
HomeHealthShilajit के फायदे और नुकसान

Shilajit के फायदे और नुकसान

नमस्कार दोस्तों स्वागत करते हैं हम अपने ब्लॉग पर दोस्तों आज हम आपको Shilajit के कुछ ऐसे फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं! तो चलिए दोस्तों बढ़ते हैं अपने टॉपिक

ऑनलाइन घर बैठे पैसे कमाए

Shilajit क्या है?

Shilajit क्या है?
credit: freepik.com

यह जड़ी-बूटी-खनिज हिमालय की ऊंचाई पर पाया जाता है।
इसे सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए उपयोगी बताया गया है। आयुर्वेद में भी इसका उल्लेख है।

इसका उपयोग हमारे देश में हजारों सालों से किया जा रहा है।
हाल ही में हुए एक सर्वे में यह भी पाया गया कि Shilajit का सेवन तनाव को कम करने में भी मददगार होता है।

Shilajit के क्या फायदे हैं?

Shilajit गुणों से भरपूर औषधि है जिनके कई सारे फायदे है। इसके खाने से कई तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है।

पुरुष के टेस्टोस्टेरोन हार्मोन में सुधार करता है

पुरुषों के लिए टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बहुत महत्वपूर्ण है। यह हार्मोन पुरुषों के यौन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने और नपुंसकता जैसी समस्याओं को दूर करने के लिए बहुत जरूरी है

इसकी कमी से पुरुषों में बालों का झड़ना, मांसपेशियों में कमजोरी, शरीर में चर्बी का बढ़ना, थकान जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

इस प्रकार Shilajit के सेवन से पुरुषों की ताकत बढ़ती है।
हालांकि, कोई भी दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर या आयुर्वेदिक विशेषज्ञ की मदद अवश्य लें।

एनीमिया की समस्या

एनीमिया की समस्या शरीर में खून की कमी है। महिलाओं में आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया अधिक आम है। हालांकि यह पुरुषों को भी हो सकता है।

Shilajit का सेवन शरीर में रक्त और ऊर्जा के निर्माण में मदद करता है।
क्योंकि इसमें ह्यूमिक एसिड और आयरन होता है

मूत्र संबंधी समस्याएं

Shilajit मूत्र संबंधी समस्याओं से भी राहत दिलाने में मदद करता है। यह गुर्दे और मूत्राशय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है। इसके सेवन से मूत्र असंयम और पथरी

इसे भी पढ़े-Bitcoin Trading: How to trade in Bitcoin

जैसी समस्या दूर हो जाती है। इससे किडनी की कार्यक्षमता बढ़ती है।

 स्वास्थ्य के लिए Shilajit

अगर आपको जोड़ों का दर्द है तो शिलाजीत फायदेमंद हो सकता है।
इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं।

जो शरीर में ऊतकों की सूजन को कम कर जोड़ों में होने वाले कष्टदायी दर्द को कम करने में मदद करता है।
इसके अलावा, इसके उपयोग से उम्र बढ़ने और कोशिका क्षति के लक्षणों को कम किया जा सकता है।

दिमाग को तेज रखता है

शिलाजीत का इस्तेमाल आपके दिमाग के लिए भी फायदेमंद होता है।यह आपकी याददाश्त को भी मजबूत कर सकता है।
इसमें मौजूद फुल्विक एसिड मस्तिष्क में टो प्रोटीन के असामान्य और असंतुलित उत्पादन को रोक सकता है।

यह अल्जाइमर जैसी दिमागी समस्याओं से भी राहत दिला सकता है।
हालांकि, इस पर और शोध की जरूरत है।

मर्दानगी बढ़ेगी

एक चम्मच Shilajit का सेवन करने से आपकी मर्दानगी बढ़ेगी।
दरअसल शिलाजीत में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ाने की क्षमता होती है।
इसका सेवन करने से आपकी परफॉर्मेंस टाइमिंग भी बढ़ जाती है।

दूध के साथ पीने से बढ़ती है शुक्राणुओं की संख्या

दूध में Shilajit का चूर्ण मिलाने से शुक्राणुओं की संख्या तेजी से बढ़ती है।
ऐसा दावा एक वैज्ञानिक अध्ययन के बाद किया गया है।

दूर होगी अनिद्रा की समस्या

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी से अनिद्रा की समस्या होती है। शिलाजीत खाने से यह हार्मोन बढ़ता है।
इसलिए रात को सोने से पहले शिलाजीत का सेवन करना चाहिए।

कमजोरी का खतरा नहीं रहेगा

एनीमिया कई बीमारियों का कारण बन सकता है। शिलाजीत में आयरन होता है।
जो आपके शरीर में एनीमिया को रोकता है।

याददाश्त विकसित होगी

शिलाजीत का सेवन याद रखने की क्षमता को भी बढ़ाता है।
असली फुल्विक एसिड शिलाजीत में पाया जाता है। यह एसिड दिमाग की कार्यक्षमता को बढ़ाता है
और याददाश्त में भी सुधार करता है।

मजबूत होगी इम्युनिटी

बीमारियों से दूर रहने के लिए आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होनी चाहिए।
शिलाजीत एक एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है। जो आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करेगा।
इसलिए आप रोजाना थोड़ी मात्रा में शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं।

एंटी-एजिंग के रूप में

लंबे समय तक जवां दिखने के लिए भी शिलाजीत काफी फायदेमंद होता है।
जब सेवन किया जाता है, तो यह एक एंटी-एजिंग एजेंट के रूप में कार्य करता है।
नतीजतन, बढ़ती उम्र के कई प्रभाव निष्क्रिय हो जाते हैं।

मधुमेह के इलाज में कारगर है Shilajit

मधुमेह जैसे रोग से पीड़ित लोगों के लिए शिलाजीत रामबाण औषधि हो सकती है।
अपने मधुमेह विरोधी गुणों के कारण, यह मधुमेह के उपचार में मदद कर सकता है
और इसके जोखिम को कम कर सकता है।

महिलाएं Shilajit का सेवन कैसे करे

महिलाएं Shilajit का सेवन कैसे करे
credit: freepik.com

यह पुरानी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी कई रूपों में उपलब्ध है। इसमें कैप्सूल, पाउडर, टैबलेट आदि होते हैं और आप इसे अपनी त्वचा के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह एक औषधि है। इसलिए इसे लेने से पहले आपको एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

पाउडर के रूप में

सबसे पहले 2 से 4 चम्मच Shilajit पाउडर (150 मिलीग्राम) लें।

इसे भी पढ़े-Types of Gujrati Dhokla

इसे पानी या दूध में अच्छी तरह मिला लें।
इस तरह आप रोजाना शिलाजीत के साथ एक गिलास दूध या पानी पी सकते हैं।

Shilajit कैप्सूल

  •   आप किसी भी अन्य कैप्सूल की तरह कैप्सूल ले सकते हैं।
  •   पहले खाना खाओ।
  •   फिर कैप्सूल को पानी के साथ लें।
  •   आप शिलाजीत का एक कैप्सूल दिन में दो बार ले सकते हैं।

अगर आप Shilajit टैबलेट ले रहे हैं

आप भोजन के बाद एक शिलाजीत कैप्सूल को गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं। आप इसे दिन में दो बार भी ले सकते हैं। लेकिन इसकी खुराक के लिए एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

खाली पेट खाएं

आप चाहें तो शिलाजीत को सुबह खाली पेट भी ले सकते हैं। तभी आप इसका अधिकतम लाभ उठा सकते हैं। इसलिए खाली पेट शिलाजीत को पाउडर के रूप में आजमाएं।

त्वचा के लिए फायदेमंद

इसके अलावा, क्रीम और टॉनिक हैं जो Shilajit के साथ मिश्रित होते हैं।
इनका इस्तेमाल आप अपनी त्वचा को निखारने के लिए कर सकते हैं।

इसे पढ़े-Benefits of Guava | अमरूद खाने के अद्भुत फायदे

 

Shilajit से होने वाले नुकसान

  •  इसके सेवन से यौन स्वास्थ्य से जुड़ी कई समस्याओं से राहत मिलती है। इसलिए लोग इनका सेवन कर अपनी समस्याओं को प्राकृतिक रूप से हल करने का प्रयास करते हैं।
  • शिलाजीत का सेवन करने के कई फायदे हैं। वहीं इसके सेवन से होने वाला नुकसान भी काफी गंभीर होता है।
  •   प्राकृतिक उपचार से राहत पाने के लिए यौन स्वास्थ्य शिलाजीत के दुष्प्रभावों की सलाह दी जाती है। यह कई यौन स्वास्थ्य समस्याओं से राहत देता है।
  •   इसलिए लोग इनका सेवन कर अपनी समस्याओं को प्राकृतिक रूप से हल करने का प्रयास करते हैं। शिलाजीत का सेवन करने के कई फायदे हैं। वहीं शिलाजीत के साइड इफेक्ट भी काफी गंभीर होते हैं।
  •   शिलाजीत या किसी अन्य प्राकृतिक औषधि का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। बहुत बार लोग इन दवाओं का ओवर-द-काउंटर उपयोग करते हैं।
  • यही गलती इन बहुमुखी दवाओं से लाभ उठाने के बजाय लोगों को नुकसान पहुँचाती है। जो लोग शिलाजीत के सेवन के समय शिलाजीत का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं उन्हें जल्दी और अच्छे परिणाम मिलते हैं। इनके कई तरह के साइड इफेक्ट भी होते हैं।

शरीर का बढ़ता तापमान

भारतीय वियाग्रा या शिलाजीत का पहला दुष्प्रभाव। यानी शरीर की गर्मी बढ़ गई। गर्मी हाथ, पैर और पेट में भारीपन का कारण बनती है। असंतुलित तापमान से मिजाज और सिरदर्द हो सकता है।

हथेलियों में सूजन

बहुत अधिक शिलाजीत खाने से हाथ पैरों और हथेलियों में जलन और गर्म महसूस होने जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

एलर्जी

गर्मी और एलर्जी के कारण त्वचा पर छाले, रैशेज और जलन भी इंडियन वियाग्रा यानी शिलाजीत के साइड इफेक्ट हो सकते हैं।
शिलाजीत उल्टी, मतली या हृदय गति में वृद्धि का कारण भी बन सकता है।

अत्यधिक पेशाब आना

बार-बार पेशाब आना भी शिलाजीत ओवरडोज का एक साइड इफेक्ट हो सकता है।

इसे पढ़े –

रेफर कर के पैसे कमाए

Chasing perfection only gives stress

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular